छत्तीसगढ़

कोरोना योद्धा बिना सुरक्षा किट के : निगम कंगाल, तो माकपा पार्षद ने की व्यवस्था, कहा — माकपा कार्यकर्ता महापौर के साथ मिलकर चंदा इकट्ठा करने के लिए तैयार

कोरबा। कोरोना महामारी की इस दूसरी भयानक लहर में भी कोरोना योद्धा बिना सुरक्षा किट के काम कर रहे हैं। कोरबा निगम क्षेत्र के अंतर्गत सैकड़ों मितानिनों, आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, शिक्षकों और स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों को घर-घर जाकर कोरोना पीड़ितों का सर्वे करने और कोरोना से बचाव के लिए जागरूकता फैलाने का काम दिया गया है, लेकिन ये ‘कोरोना योद्धा’ बिना किसी सुरक्षा किट के मजबूरी में अपनी जान जोखिम में डालकर यह काम कर रहे हैं।

यह कड़वी सच्चाई तब उजागर हुई, जब दसियों कोरोना योद्धा निगम के मोंगरा वार्ड में बिना सेनेटाइजर और बिना मास्क और ग्लव्स के सर्वे के लिए पहुंचे। इन कोरोना योद्धाओं से माकपा पार्षद राजकुमारी कंवर द्वारा पूछे जाने पर उन्होंने बताया कि निगम द्वारा उन्हें ये सब सुरक्षा सामग्री नहीं दी जा रही है। तब निगम की इस कंगाली से व्यथित माकपा पार्षद ने तुरत-फुरत इन कोरोना योद्धाओं के लिए स्वयं सुरक्षा किट की व्यवस्था की तथा सर्वे दल के सभी सदस्यों के बीच वितरित किया। इस सुरक्षा किट में थर्मामीटर, साबुन, सेनेटाइजर, मास्क व दस्ताने आदि शामिल है।

कोरोना योद्धाओं के प्रति निगम प्रशासन के संवेदनहीन व लापरवाहीपूर्ण रूख की पार्षद राजकुमारी कंवर ने तीखी निंदा की है तथा कहा है कि निगम प्रशासन न केवल कोरोना योद्धाओं की जिंदगी से खिलवाड़ कर रहा है, बल्कि इससे पूरे वार्ड में संक्रमण फैलने के खतरे की भी अनदेखी कर रहा है। उन्होंने कहा कि बिना सुरक्षा किट के यदि एक भी कोरोना योद्धा संक्रमित हो जाता है, तो वह अनजाने में अपने पूरे सर्वे दल के साथ ही पूरे गांव को भी संक्रमित करेगा।

माकपा जिला सचिव प्रशांत झा ने निगम प्रशासन पर कोरोना योद्धाओं की सुरक्षा के लिए उपलब्ध फंड में लाखों की हेराफेरी करने का आरोप लगाया है तथा कहा है कि कोरोना संकट से निपटने के लिए जिम्मेदार निगम प्रशासन खुद कोरोना के फैलाव का काम कर रहा है। उन्होंने मांग की है कि निगम क्षेत्र में कार्यरत सभी कोरोना योद्धाओं को ऑक्सीमीटर व थर्मामीटर के साथ नियमित अंतराल में सुरक्षा किट उपलब्ध कराया जाये, जिसमे सेनेटाइजर, साबुन, मास्क व दस्ताने आदि भी शामिल हो। उन्होंने कहा कि मानव जाति के अस्तित्व के लिए खतरनाक हो चुके इस वायरस के खिलाफ लड़ाई में निगम की कंगाली के तर्क को स्वीकार नहीं किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस काम के लिए निगम में फंड की कमी को दूर करने के लिए माकपा कार्यकर्ता महापौर के साथ मिलकर चंदा इकट्ठा करने के लिए भी तैयार है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
LIVE OFFLINE
track image
Loading...