छत्तीसगढ़

अंगदान जीवन के लिए अमूल उपहार है :महेश प्रसाद शुक्ला

नंदिनी अंग दान महादान हुआ चरितार्थ नंदिनी नगर अहिवारा निवासी श्री महेश प्रसाद शुक्ला जी समय की आवश्यकता को समझते हुए अपने शरीर को लोक हितार्थ दान के लिए संकल्पित हुआ|अंगदान समाज के लिए चमत्कार साबित हुआ, अंगदान जैसा पुण्य कार्य करना किसी व्यक्ति के लिए वरदान साबित होगा, यह कार्य प्रयास संस्था के संस्थापक श्री पवन केसरवानी जी के प्रेरणा व सहयोग से फलीभूत हो पाया| कहा गया है कि- मरना भला अनजान जग. जहाँ अपना न कोय| पग पंछी भोजन करै.तन भंडारा होय|| कवियों के द्वारा कही बात का आशय यह है कि मानव को चाहिए. अपने शरीर को परोपकार में लगा देना चाहिए| आज की स्थिति में पूरी दुनिया विभिन्न प्रकार के रोगों से ग्रसित हो रहे हैं| ऐसी स्थिति में मेडिकल कॉलेज के स्टुडेंट्स के अध्ययन के लिए मानव अंग आवश्यक है | और यह पुनित कार्य का प्रारंभ नंदिनी नगर क्षेत्र में शुक्ला जी के द्वारा किया गया| इस कार्यक्रम के साक्षी बने नंदिनी नगर के गार्डन. श्री राकेश जसपाल. कुंवर सिंह चौहान. पार्षद विद्यानंद कुशवाहा.शिझक बी, आर, वर्मा
उमेश पासवान.पवन केसरवानी. विक्रम सिंह. रामपाल नाविक, शुक्ला जी के परिवार.नगर के प्रमुख जन रहे| नगरवासी शुक्ला जी का सम्मान बहुत ही आत्मीय ढंग से किया गया| केसरवानी द्वारा अंग दान से सम्बन्धित प्रश्नों का जवाब बहुत सुन्दर ढंग से दिया गया|

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
LIVE OFFLINE
track image
Loading...