Uncategorized

भारत में 5G आने की संभावना रिलायंस जियो ने सरकार से मांगा ट्रायल का इजाजत

रिलायंस जियो ने 5जी टाइल का सरकार से मांगा इजाजत

नई दिल्ली.रिलायंस जियोने 5G की अपनी तकनीक के ट्रायल के लिए केंद्र सरकार से इजाजत मांगी है। ऐसा करने वालीरिलायंस देश की पहली कंपनी बन गई है। सूत्रों के मुताबिक अगर 5जी तकनीक का ट्रायल रन सफल रहता है, तो जियो 5जी के उपकरणों की तकनीक के डिजाइन को थर्ड पार्टी के जरिए मैन्युफैक्चर्स के लिए आउटसोर्स किया जा सकेगा।

चीनी कंपनियों के साथ मिलकर जियो करेगा 5जी का ट्रायल

जियो ने अपने 5जी ट्रायल रन को तेजी से विस्तार करने का निर्णय चीनी कंपनी हुआवे टेक्नोलॉजीज, एरिक्सन और नोकिया के साथ करने का निर्णय लिया है। शुरुआत में सैमसंग जियो का मुख्य इक्यूपमेंट सप्लायर था। रिलायंस ने अपने टेलीकॉम रिसर्च एंड डेवल्पमेंट डिजाइन और तकनीक पर चुपचाप लंबे वक्त से काम कर रही है। रिलायंस ने 5जी तकनीक और आईओटीको विकसित करने के लिए अमेरिकी कंपनी रेडिसिस को 6.7 करोड़ डॉलर में खरीदा था।

अभी तक 5जी तकनीक के मामले में यूरोपीय और चीनी कंपनियों का दबदबा रहा है, इसमें रिलायंस अपनी जगह बनाना चाहतीहै। जियो के अलावा एयरटेल, वोडाफोन आइडिया चीनी कंपनियों एरिक्शन, नोकिया और हुआवे के साथ मिलकर 5जी तकनीक पर काम कर रही हैं। सरकार2018 से टेलीकॉम इक्यूपमेंट के डिजाइन और मैन्युफैक्चरिंग के घरेलू निर्माण पर जोर दे रही है। ट्राई ने लोकल मैन्युफैक्चरिंग को बढ़ावा देने के लिए कई प्रस्तावों को पास किया है। जियो ने चीनी कंपनियों के साथ मिलकर ट्रायल रन की इजाजत मांगी है, जबकि भारती एयरटेल के चेयरमैन सुनील मित्तल ने चीनी कंपनियों के उपकरणों पर प्रतिबंधित लगाने की मांग की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
LIVE OFFLINE
track image
Loading...